यह भी पढ़ें:

You'll Also Like

My other Blogs

रविवार, 10 जनवरी 2010

मुझे भरोसा है




अँधेरा है अभी, मैं मान भी लूँ तुम्हारी बात
पर फिर होगा उजाला, मुझे भरोसा है.


खाली 'देखा-देखंगे' कहने वाले, दिखायेंगे कुछ कर के
बकवास छोड़ होंगे कार्य को उद्यत, मुझे भरोसा है.


काले कारनामे-सफ़ेद वस्त्र, स्वांग रच जो बने हैं प्रधान
होगा उनका मुंह काला,  मुझे भरोसा है.


दूसरों के घर जलाने वाले, समझेंगे सबको अपना
संभालेंगे देश को, मुझे भरोसा है.


आंखें बंद कर भागने वाले, भागेंगे नहीं अंधी दौड़ में
देखेंगे ऊपर-नीचे हर तरफ, मुझे भरोसा है.


जन्मान्धों की भी खुलती हैं आखें, कभी तो टूटती है नींद
बदले जाते हैं चोले, आते हैं मेले, मुझे भरोसा है.


दिन में ही घिर सकता है अँधेरा, हो सकती है रात भी
हाथों में थामी जायेंगी मशालें, मुझे भरोसा है.


लगा है कोहरा झूठ का, सच की आँखों में पट्टा
बरसेंगे शीघ्र बादल, मुझे भरोसा है.


कहाँ जायेगी हंसी, और क्यों, सामने ही आ मिलेगी
जाना नहीं पड़ेगा तलाशने, मुझे भरोसा है.













....नवीन जोशी
(मेरी कुमाउनी कविता 'भरौष' का भावानुवाद )

2 टिप्‍पणियां:

  1. नवीन जी

    फॉण्ट साईज बढ़ाकर....फॉण्ट का रंग बदलें तो पढ़ने में सहूलियत हो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका भरोसा बना रहे ताकि कुछ भरोसा हमें भी हो जाये ।

    उत्तर देंहटाएं