यह भी पढ़ें:

You'll Also Like

My other Blogs

शनिवार, 8 जून 2013

नईं जमा्न में...



अजब-गजब द्यखौ
(उत्तराखंड आंदोलना्क) उ जमा्न में
मैंस देखणांछी स्वींण
राज्या्क विकासा्क
गौं-गाड़न में द्यखौ-कर्फ्यू
घुघुतिकि घुर-घुर में सुणीं
बन्दूगौंकि गोइ
जां लागि रूंछी रोज
भा्इ-चारा्क म्या्व
वां ज्वानौंकि लाश द्ये्खीं
जां है रूंछी, हंसि-ठा्ठ-खुसि
वां इज-बाबुकि डाड़ पड़ी द्येखी
बजार में द्येखीं
धरना, जुलूस, हड़ताल
मरीनैकि जिन्दाबाद
ज्यूनौंकि मुर्दाबाद
ठो्सीणांछी मैंस-स्यैंणी
झेलून बड़ पैमा्न में,
अजब-गजब द्यखौ
उ जमा्न में ।
.................................
पहाड़ों में द्यखौ बड़ बिकास
गौं-गौं तक दये्खीं सड़क
रिटणाछी जीप, गाड़ि, मोटर-कार
घर-घर में द्यखौ टी.बी.
एक-एक टी.बी. में द्य्खौ
छै-छै डिसौंक कनैक्सन
पेट खा्लि हो भलै
गा्ड़ खड़ि हुं, खंणि बिचै ग्येईं भलै
डा्व बोट खोपि-काटि बेचि हालीं भलै
के रुजगार न्है भलै
घरक काम करंण में शरमै भै
नईं-नईं मिजात करणै भै
बिड़ि-सिगरेट-सुर पींणै भै
खांण हुं क्रीमरौल, बिश्कुट चैनेरै भै
ए दुसरैकि हौंसि में
हिन्दी-हिंग्लिश
कुमाउनी हिमाउंनी बंडण द्येखी
मैंस द्येखीं भैटी रात्ति-ब्याव
जुवा्क फड़न में
अजब-गजब द्यखौ
यौ नई जमा्न में ।

(मेरे इसी माह प्रकाशित हो रहे कुमाउनी कविता संग्रह 'उघडी आँखोंक स्वींण' से...)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें