यह भी पढ़ें:

You'll Also Like

My other Blogs

शुक्रवार, 8 जनवरी 2010

कौन हैं हम ?




कौन हैं हम ?
स्कूल जाने वाले
                         विद्यार्थी नहीं,
                         शिक्षक नहीं,
                          क्या ट्यूटर ?


अस्पताल जाने वाले
                         चिकित्सक नहीं,
                         शल्यक नहीं,
                  क्या चीड़-फाड़ करने वाले 
                            कसाई ? 


घर-सड़क बनाने वाले 
                        इंजीनियर नहीं, 
                        ठेकेदार नहीं, 
               सीमेंट-सरिया चुराने वाले 
                         चोर- लुटेरे ?


राजनीति करने वाले
                        जनता के सेवक नहीं,
                        विकास लाने वाले नेता नहीं,
                             देश बेचने वाले
                                 दलाल ?


कोर्ट- कचहरी जाने वाले
                        वकील नहीं,
                        जज नहीं,        
           अन्याय करने वालों को बचाने वाले
        सीधे साधे लोगों को लूटने- मारने वाले...
                              गुंडे ?    


समाज में रहने वाले
                        किसी के पड़ोसी नहीं,
                        किसी के ईष्ट-मित्र नहीं,
                             सिर्फ पैसों के 
                             गोबरी कीड़े ? 


                        लक्ष्मी के पुजारी नहीं,

  सवारी...उल्लू ? 

















.... नवीन जोशी   
(मेरी कुमाउनी कविता 'को छां हम' का भावानुवाद. )

4 टिप्‍पणियां:

  1. वो ही हैं हम जो आप सोच रहे हैं
    पत्रकारों को भूल गये आप
    समाज का सही आइना है आपकी कविता
    लिखते रहें
    कुमाँऊनी कविता भी सांथ मे देते तो ठीक होता
    स्वागत है !!!!!!

    वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें सहूलियत हो जायेगी कमेंटस देने मे

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद shardu kumar, आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया के लिए.

    धन्यवाद ulook, आपकी सुन्दर मुखाकृति देखने की इच्छा है, ताकि पता लगे कि आप कौन हैं ? नयां ब्लॉगर हूँ, अभी काफी चीजें सीखनी हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    उत्तर देंहटाएं